Survey notes most important question part - 1 hindi me

1- थियोडोलाइट उपकरण द्वारा केवल क्षैतिज तथा ऊर्ध्वाधर कोण ही मापा जाता है।
2- जरीब सामान्यतः जस्तीकृत लोहे की बनी होती है। 3- जरीब के दोनों किनारों पर एक - एक पीतल के हैंडल लगाए जाते हैं।
4- जरीब में एठन ना होने के लिए फिरकी जोड़ लगाई जाती है।
5- इंजीनियरिंग जरीब में प्रत्येक कड़ी की लंबाई 1 फुट होती है।
6- गंटर जरीब की लंबाई 66 फुट होती है।
7- गंटर जरीब में 100 कड़िया होती है तथा प्रत्येक कड़ी की लंबाई 0.66 फुट होती है।
8- मानक जरीब की लंबाई इंवार फीता द्वारा मापा जाता है।
9- राजस्व जरीब की लंबाई 33 फुट होती है।
10- राजस्व जरीब भूकर सर्वेक्षण में प्रयोग की जाती है।
11- इस्पाती पत्ती जरीब की लंबाई 20 से 30 मीटर तक होती है।
12- 20 मीटर लंबी जरीब में कड़ियों की संख्या 100 होती है ।
13- 30 मीटर जरीब में कड़ीयों की संख्या 150 होती है।
14- मीटरी जरीब में कड़ीयों की केंद्र से केंद्र की दूरी 20 सेमी होती है।
15- आरेखन दनड की लंबाई 3 मीटर होती है
16- प्रिज्मी दिकसूचक का अल्पतमांक 30 मिनट होता है।
17- इंवार फिता अत्यंत परिशुद्धता वाले सर्वेक्षण कार्य में प्रयोग किया जाता है ।
18- आरेखन छड़ की लंबाई 2 मीटर से 3 मीटर होती है।
19- सुआ या सुजा की लंबाई 40 सेमी होती है ।
20- सर्वेक्षण करते समय सर्वेयर के पास 10 शुरू होने चाहिए ।
21- प्रकाशी गुनिया में दोनों दर्पणों के बीच का कोण 45 अंश रखा जाता है।
22- जरीब सर्वेक्षण में रेखिय मांपे ली जाती है ।
23- क्षेत्र में अनुकूलतम त्रिभुज के लिए कोई भी कोण 30 अंश से कम व् 200 अंस से अधिक नहीं होना चाहिए ।
24- खसके की  परिसीमित लंबाई 0.25 mm होती है।
Previous
Next Post »