LESION - 2 (BRICK) महत्वपूर्ण नोट हिंदी में

PART-1

BRICK【 ईट 】 से महत्वपूर्ण प्रश्न हिंदी में

  1. मॉड्यूलर ईंटो का आकार 19 ×9×9 cm होता है।
  2. ईट के ऊपर बनाया गया चिन्ह frog (दिल्ला) कहलाता है।
  3. ईंट की दीवार की न्यूनतम मोटाई 10 सेमी होती है जबकि पत्थर की दीवार की मोटाई 35 सेमी से कम नहीं होती।
  4. ईट पत्थर की तुलना में अधिक अग्निसह होती है।
  5. ईंट की मिट्टी का प्रमुख घटक बालू या सिलिका होती है।
  6. ईट की मृदा में एल्यूमिना की मात्रा आवश्यकता से अधिक होने पर ईंट सूखने पर अधिक सिकुड़ जाती है और पकने पर टेढ़ी-मेढ़ी हो जाती है।
  7. प्रथम श्रेणी ईट को 24 घंटे पानी में रखने पर यह अपने शुष्क भार के 20% या 1/6 भाग से अधिक पानी नहीं सोखना चाहिए।
  8. प्रथम श्रेणी ईट की संपीडन सामर्थ 105 kg/cm स्क्वायर से कम नहीं होना चाहिए।
  9. द्वितीय श्रेणी ईट की संपीडन सामर्थ 75 kg/cm स्क्वायर से कम नहीं होना चाहिए।
  10. ईट की संपीडन सामर्थ ज्ञात करने के लिए उस पर 140 kg/ सेमी स्क्वायर/मिनट कि दर से भार लगाया जाता है।
  11. सामान्य ईंट 900 डिग्री सेंटीग्रेड ताप पर तथा अग्निसह ईंटे 1700 डिग्री सेंटीग्रेट से अधिक ताप पर पकाया जाता है।
  12. मादा डेली (queen closer) ईट का प्रयोग उर्ध्वाधर जोड़ की सततता भंग करने के लिए किया जाता है।
  13. नरडेली ( king closer) ईंट का प्रयोग दरवाजे खिड़कियों के तिरछे जेम्ब बनाने के लिए किया जाता है।
  14. ईट की मिट्टी तैयार करने के लिए पग मील का प्रयोग किया जाता है।
  15. ईट को अपना विशेष रंग (लाल रंग) लौह ऑक्साइड के कारण प्राप्त होता है।
  16. ईद की मृदा में चुना गालक (flux) का कार्य करता है।
  17. ईट के निर्माण में बालू या सिलिका की मात्रा- 50 से 60%       लाइम - 2 से 5%                                    एलुमिना - 20 से 30%                                  लौह ऑक्साइड - 3 से 5% होता है।
  18. भारतीय मानक के अनुसार ईटों की लंबाई जांचने के लिए 20 ईंटो को लिया जाता है।
  19. प्रथम श्रेणी ईट का भार 2.75 से 3 किग्रा के मध्य होना चाहिये ।
  20. द्वितीय श्रेणी के ईट के जल अवशोषण छमता 24 घण्टे पानी में डुबोये रहने पर यह अपने भार का 1/4 या 22% से अधिक पानी नही सोखना चाहिए।
  21. ईट बनाने के लिए ऋतुछरित (weathered) मृतिका अच्छी होती है।
  22. एक घन मीटर ईट चिनाई में मानक ईटों की संख्या 500 होती है तथा सूखे चिनाई मसाले की मात्रा 0.30 m cube लिया जाता है।
  23. पत्थर चिनाई में सभी जोड़ों की फलक पर मोटाई 2 सेमी से अधिक नहीं होना चाहिए।
  24. सामान्य भवन के ईटों की संपीडन प्रबलता 35 kg प्रति सेमी स्क्वायर से कम नहीं होना चाहिए।
  25. प्रथम श्रेणी ईट को 1 m की ऊँचाई से जमीन पर गिराने पर टूटनी नही चाहिए।
  26. बिना त्रिकोणीय कोण वाली ईट का वह भाग जो लंबाई और चौड़ाई के आधे भाग के बराबर होता है किंग क्लोज़र ईंट के नाम से जाना जाता है।
  27. वृक अर्थ में एलुमिना का मुख्य कार्य नमनीयता (plasticity) प्रदान करना होता है। 
  28. जिसमें हर रददे में हेडर तथा स्ट्रेचर होता है इंग्लिश बांड कहलाता है।
  29. ईंट चिनाई में ईंट के दिल्ले को आम तौर पर शीर्ष फलक पर रखा जाता है।
  30. एक ही श्रृंखला में एकांतर (एक के बाद एक) हेडर तथा स्ट्रेचर द्वारा बनाई गई बांड को अंग्रेजी बांड कहां जाता है ईंट चिनाई में प्राय यही बॉन्ड उपयोग किया जाता है।                                                                    By -R.k maurya
Previous
Next Post »