BUILDING MATERIALS (भवन सामग्री) / STONE (पत्थर) / SSC JE / DMRC / UP JALNIGAM / UP SSSC

STONE पत्थर

Part 1

  1. सामान्य निर्माण कार्यों के लिए प्रयोग पत्थर का जल अवशोषण क्षमता 5% से अधिक नहीं होना चाहिए।
  2. मिट्टी का विशिष्ट गुरुत्व 2.6 से 2.7 होता है।
  3.  पलीता में विस्फोटक की दर 60 से 70 cm/ मिनट होती है।
  4. ग्रेनाइट को क्वार्टर के कारण सामर्थ्य प्राप्त होता है
  5. जब मैग्मा पृथ्वी की सतह पर आ जाते हैं तो वह लावा कहलाते हैं।
  6. प्रकृति में विद्यमान कुल चट्टानों में से 85% से अधिक चट्टाने आग्नेय चट्टान है।
  7. जिसमें सिलिका की मात्रा 60% से अधिक होती है अम्लीय चट्टान  कहलाते हैं। ex- ग्रेनाइट सायनाइट रोहलाइट
  8. जिसने सिलिका की मात्रा 15% से 60% तक होती है बेसिक रॉक कहलाते हैं। ex- बेसाल्ट डोलोमाइट
  9. जिन चट्टानों में सिलिका की मात्रा 15% से भी कम होते हैं उसको अल्ट्रा बेसिक रॉक कहते हैं । ex- गैबरो
  10. Spalling hammer का प्रयोग रफ ड्रेसिंग ऑफ़ स्टोन के लिए करते हैं
  11. Sedimentry rock स्तरित होती है समुद्र का तल भी मुख्यतः इसी रॉक से बनी होती है।
  12.  स्तरित पत्थरों की सामर्थ्य स्तरण के लंम्बवत तो काफी उच्च होती है लेकिन स्तरण  तल की दिशा में काफी कमजोर होती है।
  13. मूल्यवान पत्थरों के उत्खनन के लिए तापीय चैनलिंग विधि अधिक उपयुक्त रहेगी क्योंकि इसमें छीजन कम होता है।
  14. सुराख की सफाई के लिए डीपर का प्रयोग करते हैं।
  15. चैनलिंग मशीन के द्वारा 12m की गहराई के खाचे काटे जा सकते हैं।
  16. सब्बल लोहे या इस्पात की 3 से 6 cm मोटी तथा 1 से 2  मीटर लंबी छड़ होती है।
  17. धरनो तथा स्लैबो के लिए सामान्यतः 20 mm से 40 mm के साइज की ईट की रोड़ी प्रयोग की जाती है।
  18. पहाड़ी क्षेत्रों में ढालू छतों के लिए स्लेट प्रयोग किया जाता है।
  19. रेलवे प्लेटफॉर्म के लिए बलुआ पत्थर का प्रयोग करते हैं।
  20. सार्वजनिक भवनों का बाह्य भाग, स्तंभ की फेसिंग व भवन की सजावट के लिए संगमरमर प्रयोग करते हैं।
  21. भारी इंजीनियरिंग कार्य बांध पुल, प्रकाश स्तंभ, बंदरगाह इत्यादि के लिए ग्रेनाइट का प्रयोग करते हैं।
  22. सड़क निर्माण के लिए उच्च अपघर्षण वाली पत्थर चाहिए जिसके लिए क्वार्टजाइट अच्छा है।
  23. उच्च कोटि के भवनों व स्मारकों के बाहरी तथा मूर्तियों के लिए मार्बल का चुनाव करते हैं ।
  24. Smith test  द्वारा पत्थर मे मृतिकामय कणो एवं घुलनशील अपद्रब्यो के विषय में पता लगाते हैं।
  25. ट्रैप व बलुआ पत्थर की अग्नि प्रतिरोध काफी उच्च होता है।
  26. सामान्यतः argilleous rock अग्नि के अच्छे अवरोधक होते हैं।
  27. जिस पत्थर को नाखून से खुरचने पर निशान ना पड़े उसकी कठोरता 2 होगी तथा जिस पर चाकू द्वारा निशान न बनाया जा सके उसकी कठोरता 7 होगी।
  28. लॉस एंजिल्स उपकरण द्वारा पत्थर की अपघर्षण प्रतिरोध ज्ञात किया जाता है।
  29. एक अच्छे सघन व सुगठित ग्रेनाइट पत्थर की संपीडन सामर्थ्य 1500kg/cm स्क्वायर होता है जबकि बलुआ व चूना पत्थर के लिए 500 kg /cm स्क्वायर लगभग होता है।
  30. Comperssive test द्वारा पत्थर की संदलन सामर्थ ज्ञात की जाती है।
हमारे Facebook पेज को लाइक करें
                                                  By -  R. k maurya
Oldest

1 comments:

Click here for comments
Unknown
admin
6 October 2018 at 01:40 ×

nice sir

Congrats bro Unknown you got PERTAMAX...! hehehehe...
Reply
avatar